• Quickies

    Jab muhbbat me koi pad jata hai




    नकाब सा ओड के वक़्त आता है ,
    जब मुहब्बत में कोई पड जाता है ,
    शुरुआत होती है हसींन सबके इश्क़ की ,
    पर क्या सुना है तूने ए शायर कभी के ,
    मिरज़ा कोई आखिर में अपनी साहिबा से मिल पाता है ।

    Naakab sa odd ke waqt aata hai ,
    Jab muhbbat me koi pad jata hai ,
    Par kya suna hai tune e shayar kabhi ke ,
    Mirza koi akhir me apni sahiba se mil paata hai .