• Quickies

    mere gunah ka hisaab - Mirza Galib

    Mirza Galib


    Aata hai daagh-e-hasrat-e-dil ka shumaar yaad
    mujh se mere gunah ka hisaab a khuda na maang

    आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद
    मुझ से मेरे गुनाह का हिसाब ए खुदा ना माँग