• Quickies

    Ishq par zor nahi

    Ghalib love shayari


    Ishq par zor nahi hai ye vo aatash ‘Ghalib’
    ki lagaaye na lage aur bujhaaye na bane

    इश्क़ पर ज़ोर नही है ये वो आताश ‘ग़ालिब'


    की लगाए ना लगे और बुझाए ना बने