• Quickies

    Bheed jaise bane firne

    रोज़ एक जैसी ज़िन्दगी जीने में मज़ा क्या है ,
    जब हो सकते है अलग सबसे तो फिर भीड़ जैसे बने फिरने की वजह क्या है ।

    Roj ek jaisi zindgi jeene me maza kya hai ,
    Jab ho sakte hai alag sabse to fir bheed jaise bane firne ki wajah kya hai .