• Quickies

    Aankhe uski talwar

    खून जिस्म से बेह जाता है बन पानी ,

    जो लगती है हलकी सी धार खन्जर की जिस्म पर ,

    तो कैसे ना रुके धड़कन उसके दीदार से ,

    जब करती है आँखे उसकी तलवार सा तीखा वार दिल पर ।


    Khoon jism se beh jata hai ban paani ,

    jo lagati hai halki si dhar khanjar ki jism par ,

    To kaise na ruke dhadkan uske deedar se ,

    Jab karti hai ankhe uski talwar sa teekha waar dil par .