• Quickies

    Kar le rubab e ashiqi

    कर ले रुबाब ए आशिकी अभी खुद पर करना है जितना ,
    तेरी दी तकलीफो से परेशान हर आशिक़ सहेगा भी तुझे अब कितना ,
    गिर जायेगी सियासत तेरी भी जो हर दिल पर हुकुमत किये बैठी है ,
    मिट जायेगी हस्ती भी तेरी जो हर दिल का सुकून लिए बैठी है ,
    मै अकेला नहीं जो तेरे खिलाफ है मुड के देख पीछे टूटे दिलो ने कर ली अपनी पूरी फ़ौज तैयार है ,
    देख तेरा रुतवा अब कैसे ताश के पत्तों सा गिराते है ,
    बिना मुहब्बत के अब इस दुनिया को कैसे फिर से खुशनुमा बनाते है ।



    Kar le rubab e ashiqi abhi khud par karna hai jitna ,
    Teri di taqlifo se pareshan har ashiq sahega bhi tujhe ab kitna ,
    Gir jayegi siyasat teri bhi jo har dil par hukumat kiye baithi hai ,
    Mit jayegi hasti bhi teri jo har dil ka sukoon liye baithi hai ,
    Main akela nahi jo tere khilaf hai mud ke dekh peeche tute dilo ne kar lee apni poori fauj tayyari hai ,
    Dekh tera rutwa ab kaise tash ke patto sa girate hai ,
    Bina muhbbat ke ab is duniya ko kaise fir se khushnuma banate hai .